यूसुफ पठान ने फिर मचाया तहलका, सबसे ज़्यादा रन बन..

इस भारतीय क्रिकेटर विजय हजारे के नाम नाम पर शुरू की गई विजय हजारे ट्रॉफी राज्य की टीमों से जुड़े घरेलू प्रतियोगिता है। विजय हजारे ट्रॉफी को भी रणजी वनडे ट्रॉफी के रूप में जाना जाता है। वर्ष 2002-03 में एक सीमित ओवरों के रूप में शुरू किया गया था।

1- रणजी वनडे ट्रॉफी 2018-19

विजय हजारे ट्रॉफी 2018-19 में एलीट ग्रुप ए में रोमांचक मैच में महाराष्‍ट्र ने बड़ौदा को पांच विकेट से मात देकर, क्‍वार्टर फाइनल का टिकट पक्‍का किया। ग्रुप ए की मुंबई टीम पहले से ही क्वार्टर फाइनल में अपनी जगह बना चुकी है। ये मैच क्वार्टरफाइनल ने अपनी जगह बनाने के लिए था ,दोनों टीमों में से जो भी टीम मैच जीता वह क्वार्टर फाइनल में प्रवेश कर लेता।और महाराष्ट्र ने जीत हाशिल करने के साथ क्वार्टर फाइनल में अपनी जगह बना ली।

2- बड़ौदा ने दिया अच्छा लक्ष्य

शुरुआत में मस्जिद का बड़ौदा की टीम पहले बैटिंग करने का निर्णय लिया था। हालाँकि बल्लेबाजी का अच्छा प्रदर्शन करते हुए बड़ौदा ने महाराष्ट्र टीम को 8 विकेट गवां कर 206 रनों लक्ष्य दिया था। पठान ने बेहतरीन पबल्लेबाजी की। उन्होंने 66 गेंदों में 64 रनों की नाबाद पारी खेली,जिसमे 5 चौके और दो छक्के शामिल थे। वही टीम के बाकी सदस्यों में कुणाल पांड्या ने भी हमेशा की तरह अच्छा प्रदर्शन करते हुए 5 चौके और छक्का लगाकर 52 रनों की पारी खेली। वही 44 रनों की पारी के साथ दीपक हुड्डा ने टीम में अच्छा प्रदर्शन किया। बड़ौदा टीम द्वारा दिया गया 206 रनों का लक्ष्य देखने में तो आसान नहीं था। लेकिन महाराष्ट्र टीम की शानदार बल्लेबाजी के सामने या लक्ष्य भी छोटा पड़ गया और उन्होंने महज़ 44.3 ओवर में मैच को अपने नाम कर लिया।जहाँ बड़ौदा की टीम ने 206 रनों के लक्ष्य देने में 8 विकेट गंवा दिया था, वही महाराष्ट्र केवल 4 विकेट ही गवाएं थे।

3- महाराष्ट्र की शानदार बल्लेबाजी

टीम में ज्यादा रनों के योगदान करने में ओपनर्स ने बेहतरीन प्रदर्शन किया था। रोहित मोटवानी 59 रनों 78 गेंदों में दिए और नौशाद शेख औसतन बढियां खेलते हुए 77 गेंदों में 76 रन का योगदान किया। अंकित बावने ने भी 25 रन की पारी खेली। इन्होंने टीम की जीत में अहम भूमिका निभाई। अंकित बावने ने भी 25 रन की पारी खेली। जहाँ महाराष्ट्र टीम ने फील्डिंग का बढ़िया प्रदर्शन करते हुए बड़ौदा टीम के 8 विकेट झटके थे। वही विपक्षी टीम ने केवल 4 विकेट ही हासिल किया।बड़ौदा की ओर से अतित सेठ ने सर्वाधिक 3 विकेट हासिल किये वही कृणाल पांडया ने भी एक विकेट हासिल किया|

4- ये रही पूरी स्थिति

आपको बता दे कि अगर बड़ौदा ये मैच जीत जाता तो क्‍वार्टर फाइनल में अपनी जगह पक्‍की कर लेता। आज का मुकाबला जीतने की स्थिति में भले ही बड़ौदा ने महाराष्‍ट्र के बराबर पांच मैच ही जीते होते, लेकिन नेट रनरेट के आधार पर वो क्‍वार्टर फाइनल में पहुंच जाता। वही मैच से पहले महाराष्‍ट्र ने पांच मुकाबले जीते थे और महाराष्‍ट्र के बाद चार मैच जीतकर बड़ौदा अंकतालिका में तीसरे स्‍थान पर था।

Facebook Comments