शहाबुद्दीन के घर पहुंचे अचानक ये दिग्गज, बिहार की राजनीति में हो सक…

बिहार के कई जिलों में वर्तमान सरकार की नाकामियों समेत राज्य में बढ़ते अपराध, भ्रष्टाचार समेत अन्य मुद्दों को लेकर जनता को जागरूक करने के लिए बिहार में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव रविवार से संविधान बचाओ न्याय यात्रा की शुरुआत कर चुके हैं। 11 दिवसीय इस यात्रा में पटना समेत 12 जिलों में अलग-अलग कई सभाओं का आयोजन किया जाना है। रैली की शुरुआत छपरा के नगरपालिका मैदान से हो चुकी है।

1- तेजस्वी यादव की शुरू की संविधान बचाओ यात्रा

छपरा से रैली की शुरुआत होने के बाद यह बिहार के कई जिलों में अलग-अलग दिनों में होने वाली है।दूसरे चरण का यात्रा में पहली सभा 21 अक्टूबर को छपरा में होगी जबकि 22 को सीवान, 23 को गोपालगंज, 24 को बेतिया, 26 को करपी (अरवल), 27 को मोतिहारी, 28 को शिवहर और सीतामढ़ी में तेजस्वी यदि सपने करेंगे उन लोगों को उसके जरिए सरकार की गतिविधियों और भ्रष्टाचार के बारे में जागरूक करेंगे।

2- यात्रा में जुड़ रही हजारों लोगों की भीड़

तेजस्वी यादव के संविधान बचाओ रैली के दूसरा चरण बिहार के सिवान जिले में 22 अक्टूबर को गांधी मैदान में आयोजित की गई। इसीलिए कर जनता और कार्यकर्ताओं में भारी उत्साह का दिखाई दे रहा था। बैठक में कार्यक्रम की तैयारियों पर चर्चा की गई। बैठक में जिलाध्यक्ष परमात्मा राम ने कहा कि नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव के आगमन पर पूरे जिला की राजद इकाई उनकी यात्रा को लेकर उत्साहित है और प्रचार-प्रसार में कार्यकर्ता लगे हैं।

3- लोकसभा चुनाव से पहले आरजेडी की रणनीति

कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए मंत्री से लेकर कर कीर्तन एकजुट होकर रैली को सार्थक बनाने के लिए भरपूर साथ दे रहे हैं और वही कार्यक्रम पूर्व मंत्री अवध बिहारी चौधरी की निगरानी में तैयारी की जा रही है।संविधान बचाओ रैली में मौजूद पूर्व मंत्री अवध विहार चौधरी ने तेजस्वी यादव की द्वारा शुरू की गई।

4- नीतीश कुमार ने जनता से किया धोखा

संविधान बचाओ रैली ऐतिहासिक रैली बताते हुए कहा कि यह निश्चित है आने वाले चुनाव में जनता को न सही उम्मीदवार चुनने में सहायता करेगा। उन्होंने ने विपक्ष पर निशाना साधते हुए सूबे के मुख्यमंत्री के बारे में कहां की, नीतीश कुमार ने जनता की भावनाओं के साथ खिलवाड़ किया है और भाजपा की गोद में जाकर बैठ गए है,उन्होंने ने जनता के अधिकारों की परवाह नही की है।

Facebook Comments