शादी के बाद सम्बन्ध जायज ,क्या कहती है लड़कियां? देखिये विडियो

हाल ही में सुप्रीम कोर्ट ने आईपीसी 497 पर अपना फैसला सुना दिया है। इस फैसले के तहत अब अगर कोई महिला शादीशुदा होते हुए गैर मर्द से शारीरिक संबंध बनाती है तो उसके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की जाएगी। कोर्ट का कहना है कि हम विवाह के खिलाफ अपराध से संबंधित आईपीसी की धारा 497 और सीआरपीसी की धारा 198 को असंवैधानिक घोषित करते हैं।

1- सुप्रीम कोर्ट ने धारा 497 पर सुनाया ये फैसला

आपको बता दें कि न्यायमूर्ति दीपक मिश्रा ए एम खानविलकर, न्यायमूर्ति आर. एफ. नरीमन, न्यायमूर्ति डी. वाई चन्द्रचूड़ और न्यायमूर्ति इन्दु मल्होत्रा की पीठ ने यह ऐतिहासिक फैसला सुनाया है। आपको बता दें कि आईपीसी की धारा 497 के तहत अगर कोई शादीशुदा पुरुष किसी अन्य शादीशुदा महिला से संबंध बनाता है तो यह अपराध है।

2- महिलाओं के पक्ष में आया कोर्ट का फैसला

इसमें अब महिला के खिलाफ यह अपराध नहीं माना जाएगा। इस मामले में महिला का पति अब उसके खिलाफ केस भी दर्ज नहीं करवा सकता है। जबकि महिला पुरुष के खिलाफ इस मामले में शिकायत दर्ज करवा सकती है। आपको बता दें कि कोर्ट के इस फैसले को समानता के अधिकार के तहत देखा जा रहा है।

3- लोगों ने दिए ऐसे रिएक्शन

इस मामले में देश की जनता ने तरह तरह की प्रतिक्रियाएं दी हैं। लोगों का कहना है कि कोर्ट का यह फैसला सही जरूर है। लेकिन शादीशुदा लोगों को एक दूसरे को धोखा देना ही नहीं चाहिए क्योंकि यह अपराध तो नहीं लेकिन गलत जरूर है। हालांकि लोगों ने कोर्ट के इस फैसले का तहे दिल से स्वागत किया है।

4- कहा- धोखा देना है गलत बात

इस मामले में ज्यादातर लोगों से बातचीत कर यह सामने आया है कि लोग धोखा देने वालों के पक्ष में नहीं है चाहे वह महिला हो या फिर कोई आदमी लोगों ने कहा है कि समानता का अधिकार वह है जिसमें दोनों को बराबर के अधिकार दिए जाएं। अगर महिला किसी से धोखा करती है तो उसे भी बख्शा नहीं जाना चाहिए अगर पति भी ऐसा करता है तो उसके खिलाफ भी कार्रवाई की जानी चाहिए।

Facebook Comments