राहुल ने मुस्लिमो के मसीहा को कहा चमचा, मुस्लिमो में आक्रोश

हैदराबाद को मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एमआईएम) के चीफ असदुद्दीन-ओवैसी का गढ़ माना जाता है. आपको बता दें कि असदुद्दीन ओवैसी यहाँ के सांसद भी हैं. फ़िलहाल यहाँ पर उनकी पार्टी मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एमआईएम) की मज़बूत पकड़ मानी जाती है. लेकिन बीते शनिवार को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी यहाँ पर ओवैसी पर खूब भड़के और उन्होंने उन पर निशाना साधा.

1. राहुल गाँधी का हैदराबाद में भाषण

इतना ही नहीं, आम तौर पर फिलहाल राहुल गाँधी भाजपा और मोदी को सांप्रदायिक बतातें हैं लेकिन यहाँ पर उन्होंने असदुद्दीन-ओवैसी को भी इसी कैटेगरी में रख दिया. राहुल गाँधी ने असदुद्दीन-ओवैसी और उनकी पार्टी को नफरत और विभाजन की विचारधारा रखने वाली बाताया है. हालाँकि दिलचस्प बात यह है कि असदुद्दीन-ओवैसी की पार्टी मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एमआईएम) उनके यूपी ए कार्यकाल के दौरान सहयोगी भी रही है.

2. ओवैसी पर भड़के

ऐसे में पहली बार ऐसा हुआ है जब राहुल गाँधी ने अपने किसी पूर्व सहयोगी पर निशाना साधा है. राहुल गाँधी ने शनिवार को हैदराबाद की मशहूर चार मीनार पर ज़ोरदार भाषण दिया है. उन्होंने मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एमआईएम) की भाजपा से तुलना करते हुए कहा है कि इन दोनों पार्टियों में कोई फर्क नहीं है.

3. मोदी पर साधा निशाना

इस दौरान राहुल गाँधी ने मोदी और भाजपा पर भी निशाना साधा है. उन्होंने है कि आज़ाद देश में ऐसा पहली बार ऐसा हो रहा जब खुद पीएम और उनके समर्थक देश में नफरत फैला रहे हैं और देश को बाँटने में जुटे है. उन्होंने आगे कहा कि आज देश के हालत बाद से बदतर होते जा रहे हैं. उन्होंने कहा है कि मौजूदा समय में न तो देश में महिलायें सुरक्षित हैं और न ही दलित. उन्होंने आगे कहा कि यह देश महज़ किसी जाति, मज़हब और क्षेत्र के लोगों का नहीं है. बल्कि सभी नागरिकों है यह देश. उन्होंने आगे कहा है कि इस देश का सविंधान देश के हर नागरिकों को बराबर का अधिकार देता हैं.

Facebook Comments