राफेल को लेकर इस दिग्गज ने छोड़ी भाजपा, हाई कमान में हड़कंप

सत्ता में आने से पहले मोदी और भाजपा ने देश में करप्शन को लेकर बड़ा मुद्दा बनाया था. इसके अलावा भाजपा ने लगातार बढ़ती भीषण महंगाई को लेकर भी बड़ा मुद्दा बनाया था. लेकिन अब मोदी सरकार का यह कार्यकाल ख़त्म होने को है और इस बात से इनकार नहीं किया जा सकता है कि भाजपा और मोदी ने जनता से जो भी वादा किया था और अच्छे दिन के सपने दिखाए थे, अब वह उन मोर्चों पर पूरी तरह से फेल नज़र आ रही है.

1- राफेल डील पर फंसे मोदी

फिलहाल देश के पीएम मोदी पर करप्शन का आरोप लग रहा है, जी हाँ, हम बात कर रहे हैं राफेल डील की. बड़ी बात यह है कि खुद फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति ने एक बड़ा बयान दिया और उन्होंने भारत सरकार को कटघरे में खड़ा कर दिया. उन्होंने कहा था कि इस डील के लिए भारत सरकार ने सिर्फ अनिल अम्बानी की कंपनी रिलायंस का नाम ही दिया था.

2- भाजपा विधायक ने छोड़ी पार्टी

ऐसे में किसी और कंपनी को यह डील देना का विकल्प ही नहीं था. उनके इस खुलासे के बाद देश भर में इसे लेकर चर्चा हो रही है क्योंकि मोदी और अम्बानी की दोस्ती से पूरा देश वाकिफ है. वहीँ इस बात से भी मुंह नहीं मोड़ा जा सकता है कि चुनाव प्रचार के दौरान अम्बानी ने मोदी पर खूब खर्च किया था.

3- ज्वाइन कर सकते हैं कांग्रेस

ऐसे में अब एक भाजपा विधायक ने इन आरोपों के बाद पार्टी से खुद को अलग कर लिया है. उन्होंने विधायकी और पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से भी इस्तीफा दे दिया है. बता दें कि आशीष देशमुख महाराष्ट्र से हैं. उन्होंने कहा है कि राफेल डील में हुई घपलेबाजी की वजह से उन्होंने पार्टी से इस्तीफा दिया है. इसके अलावा उन्होंने महाराष्ट्र में पार्टी के काम से भी बेहद हताश हैं. कयास लगाया जा रहा है कि वह जल्द ही कांग्रेस का हाथ थाम सकते हैं.

Facebook Comments