मोदी के सबसे लोकप्रिय शहर में लगे इन पोस्टरों से मचा हड़कंप, ” गुजराती मोदी बनारस छोड़ो… “

बीते 2 हफ्तों में गुजरात से लगातार उत्तर प्रदेश और बिहार के लोगों पर हमले की खबरें सामने आ रहे हैं। गौरतलब है कि गुजरात में इस वक्त हजारों उत्तर प्रदेश और बिहार के लोगों के पलायन की खबर सामने आई है। जिसके पीछे की वजह यह है कि बीते महीने गुजरात के साबरकांठा जिले के एक गांव में 14 महीने की बच्ची के साथ हुए दुष्कर्म के मामले में बिहार के रहने वाले रविंद्र साहू का नाम सामने आया है।

1- गुजरात में उत्तर भारतीयों के खिलाफ हो रही हिंसा

आपको बता दें कि गुजरात पुलिस द्वारा आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है जिसके बाद से ही ठाकोर सेना के कार्यकर्ताओं ने गुजरात में रह रहे उत्तर प्रदेश और बिहार के लोगों के खिलाफ हिंसा का माहौल पैदा कर दिया है। बताया जा रहा है कि इस मामले में कॉन्ग्रेस के विधायक अल्पेश ठाकोर ने गुजरात में मौजूद उत्तर प्रदेश और बिहार के लोगों को बाहरी बताते हुए एक भड़काऊ भाषण दिया था।

2- ठाकोर समुदाय के लोगों द्वारा किया जा रहा माहौल खराब

जिसके बाद से ही राज्य में हिंसा का माहौल पैदा हो गया है। आपको बता दें कि जिससे बच्ची के साथ दुष्कर्म किया गया है वह ठाकोर समुदाय से ताल्लुक रखती है। अब खबर सामने आ रही है कि गुजरात में पहली सिम का की आग उत्तर प्रदेश के वाराणसी तक भी पहुंच चुकी है।

3- बनारस में पीएम मोदी के खिलाफ आंदोलन शुरू

आपको बता दें कि वाराणसी देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का संसदीय क्षेत्र है जहां पर आप लोगों ने उनका विरोध करना शुरू कर दिया है। क्योंकि उनके गृह राज्य गुजरात में उत्तर प्रदेश के लोगों के साथ जिस तरह की घटनाएं हो रही हैं उस पर पीएम मोदी ने चुप्पी साधी हुई है। इस मामले में हमारे सामने एक वीडियो आया है जिसमें लोग अपने हाथों में पीएम मोदी बनारस छोड़ो लिखे हुए पोस्टर हाथ में पकड़े हुए नजर आ रहे हैं।

4- लोगों ने दी चेतावनी- एक हफ्ते के अंदर बनारस छोड़े मोदी

इस पोस्टर में लिखा हुआ है कि यह एक चेतावनी पत्र है जिसमें गुजरात महाराष्ट्र से उत्तर भारतीयों पर हो रही हिंसा के खिलाफ बनारस में जंग ए ऐलान आंदोलन शुरू किया जा रहा है। जिसके तहत बनारस में रह रहे गुजराती और महाराष्ट्र के लोगों से अपील की जा रही है कि वह 1 हफ्ते के अंदर बनारस छोड़कर चले जाएं नहीं तो उन्हें अंजाम भुगतना पड़ेगा।

Facebook Comments