मायावती के बदले तेवर, दो टूक में गठबंधन पर दिया बयान

2019 के लोकसभा चुनाव से पहले उत्तर प्रदेश की राजनीति में नए नए सियासी समीकरण बन रहे हैं। माना जा रहा है कि भारतीय जनता पार्टी और मोदी सरकार को मात देने के लिए उत्तर प्रदेश की राजनीतिक पार्टियां आप से गठबंधन कर ने वाली है। लेकिन इसी बीच बहुजन समाज पार्टी की अध्यक्ष मायावती ने एक ऐसा बयान दिया है। जिससे सियासी गलियारों में हलचल सी मच गई हैं आपको बता दें कि बसपा और कांग्रेस के बीच सीटों के बंटवारे और गठबंधन को लेकर बीते काफी वक्त से चर्चा चल रही है।

1- महागठबंधन पर मायावती ने दिया बड़ा बयान

उत्तर प्रदेश के साथ साथ बसपा और कांग्रेस के बीच मध्य प्रदेश में भी गठबंधन की खबरें सामने आ रही थी लेकिन अब बसपा सुप्रीमो मायावती के एक बयान से कांग्रेस को बड़ा झटका लगने के आसार लग रहे हैं दरअसल मायावती ने कहा है कि वह गठबंधन में सीटों की भीख मांगने की बजाए अपने दम पर चुनाव लड़ना पसंद करेंगी।

2- कांग्रेस से भीख नहीं मांगेगी बसपा

आपको बता दें कि मायावती ने बीते हफ्ते ही देश के 3 राज्य मध्य प्रदेश छत्तीसगढ़ और राजस्थान में होने वाले विधानसभा चुनाव के दौरान कांग्रेस के साथ गठबंधन ना करने की घोषणा की थी। मायावती की इस घोषणा के बाद यह माना जा रहा है कि दोनों पार्टियों में सीटों के बंटवारे को लेकर आपसी तालमेल नहीं बैठ रहा है।

3- सीटों के बंटवारे को लेकर नहीं बैठ रहा तालमेल

इस मामले में बसपा अध्यक्ष मायावती ने कांग्रेस और बीजेपी पर निशाना साधा है। मायावती का कहना है कि बीजेपी देश में करीना और हिंसा फैलाने का काम कर रही है। कांग्रेस और बीजेपी द्वारा फैलाई जा रही घृणा और हिंसा के खिलाफ बसपा दलितों आदिवासियों पिछड़ों और मुसलमानों के आत्मसम्मान के साथ किसी भी तरह का समझौता नहीं करने वाली।

4-सम्मानजनक संख्या में सीटें दी जाएँ

आपको बता दें कि मायावती ने कांग्रेस के साथ गठबंधन करने से पहले बसपा को सम्मानजनक संख्या में सीटें दिए जाने की बात रखी थी। बसपा सुप्रीमो मायावती ने यह बातें पार्टी के संस्थापक काशीराम की पुण्यतिथि पर कही है। उन्होंने कहा है कि बीजेपी और कांग्रेस अकबर कास्ट गरीब और बाकी लोगों के हित में काम करती है।

Facebook Comments