दुर्गा पूजा में डीजे को लेकर आया फरमान, लोगो में नाराजगी …

भारत को त्योहारों का देश कहा जाता है. दरअसल भारत में अलग अलग मज़हब और मान्यता वाले लोग साथ मिलकर रहते हैं. मिली जुली वाली इस संस्कृति वाले देश ज़ाहिर सी बात है कि जितने भी लोग रहेंगे वह अपने मज़हब के अनुसार त्यौहार और परम्परा निभाते हैं. भारत के संविधान ने उन्हें यह हक दिया है. लेकिन भारत के त्यौहार में बीते कुछ समय से बड़ा बदलाव आया है.

1. दुर्गा पूजा से पहले प्रशासन सख्त

दरअसल कहा जा सकता है कि वक़्त गुजरने के साथ साथ यहाँ के त्योहारों और उसे मनाने के तरीकों में भी काफी बदलाव आया है. दरअसल बीते कुछ समय से एक तरफ जहाँ तमाम त्योहारों पर जुलूस निकालने का रिवाज़ हो गया है वहीँ, इस इसके अलावा अब डीजे भी बजने लगा है. कमोबेश ऐसी परंपरा सभी मज़हब में देखने को मिलले लगी है.

2. डीजे को लेकर किया गया फैसला

वहीँ इस बात से भी इनकार नहीं किया जा सकता है कि त्योहारों में बजने वाले इस डीजे ने हमेशा समाज का माहौल खराब किया है. ऐसे मे अब प्रशासन ने इस पर रोक लगाने की तैयारी कर ली है. दरअसल अब जल्द ही दुर्गा पूजा आने वाली है. वहीँ देश भर में इसे धूम धाम से मचाया जाता है. इसके अलावा इस दौरान जुलूस के साथ साथ डीजे भी बजाय जाता है.

3. लेना होगा अनुमति

लेकिन इस बार ऐसा नहीं होने वाला है संसू, तारापुर मुंगेर के प्रशासन ने इस बार दुर्जा पूजा में डीजे बजाने पर लेकर तमाम तरह की गाइडलाइन जारी कर दी है. दरअसल दुर्गा पूजा से पहले होने वाली शांति समिति की बैठक में फैसला लिया गया है कि दुर्गा पूजा के दौरान डीजे बजाने से पहले इसके लिए प्रशासन से अनुमति लेनी पड़ेगी.

इस दौरान एसडीओ ने कहा कि दुर्गा पूजा में कानून व्यवस्था कायम रहेगी और सब कुछ कानून के हिसाब से होगा. इसके लिए प्रशासन ने कहा है कि पूजा समिति को लाइसेंस लेना अनिवार्य होगा.

Facebook Comments