अनिल अंबानी की बढ़ी मुश्किलें, सुप्रीम कोर्ट पहुची ये कंपनी

सत्ता में आने से पहले और लोकसभा चुनाव के दौरान मोदी ने देश में बढ़ रही भीषण महंगाई और को बड़ा मुद्दा बनाया था. इसके अलावा मोदी ने काले धन को लेकर भी मोर्चा खोल दिया था. इसके लिए भाजपा के साथ रामदेव से लेकर तमाम लोग धरने और प्रदर्शन कर रहे थे, जोकि इन दिनों करीब करीब करीब गायब ही हैं.

1. बुरे फंसे अंबानी

बहरहाल, काला धन तो मोदी ला नहीं पाए और उनका यह कार्यकाल ख़त्म होने को है. लेकिन बीते कुछ सालों में बैंक फ्रॉड से लेकर जनता के पैसो के साथ जैसा खिलवाड़ हुआ है, वैसे शायद ही कभी हुआ होगा. मसलन देश में जमकर निजीकरण को बढ़ावा दिया गया और देश के कुछ गिने चुने लोगों को ही तमाम तरह के ठेके दे दिए. ज़ाहिर सी बात है कि हम बात कर रहे हैं अम्बानी और अदानी की.

2. बकाया नहीं चुका रहे हैं

हाल ही में अंबानी को राफेल डील को लेकर मोदी घिरे हुए हैं. इस डील को अम्बानी को दिलाने में मोदी की भूमिका अब किसी से छुपी नहीं है. लेकिन इस बीच अम्बानी और फंसते नज़र आ रहे हैं. उम्मीद की जा रही है कि जिस तरह माल्या से लेकर नीरव मोदी तक, सभी जनता का पैसा लेकर विदेश भाग चुके हैं, कहा जा रहा है कि अम्बानी भी कुछ ऐसा ही कर सकते हैं.

3. विदेश जाने पर लग सकती है रोक

दरअसल स्वीडन की टेलिकॉम इक्विपमेंट कंपनी एरिक्सन का अनिल अम्बानी पर बकाया है और अपनी वसूली के लिए टेलिकॉम इक्विपमेंट कंपनी एरिक्सन अब सुप्रीम कोर्ट की शरण में गई है. मामल करीब 500 करोड़ का है जो अम्बानी को इस कंपनी को देना था. लेकिन उन्होंने नहीं दिया.

टेलिकॉम इक्विपमेंट कंपनी एरिक्सन ने सप्रीम कोर्ट में याचिका करके मांग की है कि जब तक अम्बानी यह बकाया पैसा नहीं दे देते, तब उनके और उनके दो बड़े अधिकारियों के देश से बाहर जाने पर रोक लगाई जाए.

Facebook Comments