बिहार-यूपी के लोगो के पलायन पर अखिलेश का फूटा गुस्सा, जमकर लगाई क्लास

गुजरात में बिहार और यूपी के लोगों पर हिंसा की ख़बरों के बाद वहाँ से लोगों का पलायन शुरू हो गया है. गुजरात से बिहार और उत्तर प्रदेश के लोग अपने अपने गृह राज्यों में वापिस आ रहे हैं. इसके बावजूद हमलों की छिटपुट घटनाएँ जारी हैं. पुलिस अपनी ओर से कार्यवाही करने का भरोसा तो दिला रही है लेकिन कोई ख़ास कार्यवाही हो नहीं पा रही है.

1- विपक्ष ने लगाया सरकार पर आरोप

केंद्र सरकार और गुजरात की भाजपा सरकार पर विपक्ष ने तीखा हमला बोला है. गुजरात में जिस तरह से उत्तर प्रदेश और बिहार के लोगों को भगाया जा रहा है उस पर समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने ट्वीट किया है. उन्होंने लिखा-“गुजरात एक बार फिर सुर्ख़ियों में है, जहाँ कुछ लोग कुछ लोगों के इशारे पर अमन-चैन बिगाड़ रहे हैं और हिंदीभाषियों के विरोध के नाम पर नफ़रत की राजनीति को फैला रहे हैं. केंद्र और राज्य की भाजपा सरकार इसके लिए पूरी तरह से ज़िम्मेदार है.”

2- हिरासत में लिए 250 से अधिक लोग

दबाव पड़ने के बाद पुलिस ने 250 से अधिक लोगों को हिंसा करने के आरोप में हिरासत में ले लिया है. पुलिस कार्यवाही के विरोध में ठाकोर समाज के लोगों ने प्रदर्शन भी करना शुरू कर दिया है. इनकी मांग है कि गिरफ्तार लोगों को रिहा कर दिया जाए.

3- हो रही है राजनीति

भाजपा और कांग्रेस में इस मामले में ब्लेम-गेम शुरू हो चुका है. भाजपा कांग्रेस पर इलज़ाम लगा रही है तो कांग्रेस भाजपा पर. बता दें कि यह पूरा मामला में एक मासूम के साथ रेप की घटना के बाद शुरू हुआ. इस मामले में बिहार के निवासी पर आरोप लगा और फिर लोगों का गुस्सा गुजरात में रोजगार के लिए आए बिहार और यूपी के निवासियों पर फूट पड़ा.

4- अहम् है अखिलेश का बयान

अखिलेश यादव का बयान कई मामलों में अहम् है. समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने जिस तरह से प्रदेश वासियों का पक्ष रखा है वो भाजपा के लिए आने वाले समय में नुकसानदायक हो सकता है. बिहार में भी तेजस्वी यादव ने उत्तर भारतियों का पक्ष रखा है. ऐसे में बिहार और UP के लोगों की नाराज़गी भाजपा को झेलनी पड़ सकती है.

Facebook Comments