194 नेता फसे, कांग्रेस बीजेपी के नेता शामिल, चुनाव आयोग को दी गलत…

मौजूदा समय में सियासत और सियासतदानों की विश्वसियता पर खतरा मंडरा रहा है. हालाँकि यूँ तो सियासत के शिष्टाचार पर हमेशा से बात होती रही है लेकिन इस बात से इनकार नहीं किया जा सकता है कि आज सियासत में मर्यादा को ताख पर रख दिया गया और जैसी बर्ताव एक पार्टी के नेता दुसरे पार्टी के साथ करते हैं, वह वाकई में चिंताजनक है.

1. नेताओं ने बोला झूठ

शिष्टाचार के बाद अगर नेताओं से दूसरी बात की जाती है तो वह है सियासी इमानदारी की बातें. उम्मीद की जाती है कि जिस नेता को हमने चुना है, वह हमारे साथ साथ देश के उस कानून और उसकी संस्था की भी इमानदारी के साथ साथ सुरक्षा और सम्मान करेगा. लेकिन फिलहाल अब लगता है कि यह अब कुछ महज़ किताबी बातें ही बनकर रह गई है. दरअसल देश के नेताओं को लेकर अब एक ऐसा खुलासा हुआ है, जिसकी किसी को उम्मीद नहीं थी. दरअसल हमने जिन नेताओं को अपने वोटों के ज़रिये चुना, वह झूठे निकले.

2. चुनाव आयोग को दी गलत जानकारी

न तो उन्होंने जनता से किये अपने वादे पूरे किये, अब उन्होंने चुनाव आयोग से भी दगाबाजी कर की है, जिसका खुलासा अब हुआ है. दरअसल रिपोट आई है कि देश के लगभग 194 नेताओं ने चुनाव आयोग से झूठ अपने चुनावी हलफनामे में झूठ बोला है और चुनाव आयोग को अपने पैन कार्ड की गलत जानकारी दी है. बड़ी बात यह है कि चुनाव आयोग से झूठ बोलने वाले नेता कोई आम नहीं है बल्कि मुख्यमंत्रियों से लेकर काबिना मंत्रियों तक इसके शामिल हैं. कांग्रेस से लेकर भाजपा समेत 29 पार्टियों के नेता तक इसमें शामिल है.

3. 29 पार्टी के नेता हैं शामिल

बताया जा रहा है कि भाजपा के 13 विधायक से लेकर 15 पूर्व विधायक और इसके अलावा 9 मंत्री, 1 पूर्व स्पीकर, एक पूर्व मंत्री, एक पूर्व मुख्यमंत्री और एक राज्यपाल ने भी चुनाव आयोग को झूठी जानकारी दी है.

Facebook Comments